Patanjali Divya Anu Tail: आइए जानते है पतंजलि अणु तेल का प्रयोग कैसे करे?

Patanjali Divya Anu Tail: यह एक आयुर्वेदिक दवा है जो आपको किसी भी मेडिकल पर बिना डॉक्टर के पर्चे को दिखाए आसानी से मिल सकती है। इस दवाई का मुख्य उपयोग बंद नाक को खोलने के लिए किया जाता है। इसके अलावा पतंजलि अणु तेल का आप कई दूसरी समस्याओ में भी प्रयोग कर सकते है।

पतंजलि अणु तेल हर उम्र के मरीजों के लिए लाभकारी साबित हुआ है। इस तेल की खुराक मरीजों की उम्र, लिंग वा उसकी पिछली बीमारी के आधार पर निर्भर करती है। पतंजलि अणु तेल कई तरह की औषधियों का मिश्रण है, जिसको हमने डिटेल में हमने निचे बताया है।

आइए जानते है Patanjali Divya Anu Tail की खुराक

हर मरीज वा उसकी बीमारी अलग होती है कई मरीजों की बीमारी नई होती है तो कई मरीजों की बीमारी काफी पुरानी होती है। ऐसे में मरीज को सही मात्रा में दवाई की खुराक दी जाए तो, मरीज जल्दी स्वस्थ हो सकता है। पतंजलि अणु तेल को भी अगर आप सही खुराक के रूप में इस्तेमाल करते है तो आपको इस तेल के काफी अच्छे प्रभाव देखने को मिलेंगे। आइए जानते है किस उम्र के मरीज को पतंजलि अणु तेल की कितनी खुराक लेना चाहिए।

वयस्क मरीजों की खुराक

यदि मरीज वयस्क है तो वह पतंजलि अणु तेल की निर्धारित खुराक का उपयोग कर सकता है। जिसको दिन में दो बार किसी भी समय अपनी नाक के माध्यम से लिया जा सकता है। पतंजलि अणु तेल ड्राप के रूप में आता है, जिसको आप पुरे दिन में 2 बार अपनी नाक के माध्यम से ले सकते है, इस तेल को आपको 3 हफ्तों तक लगातार लेना होगा।

बुजुर्ग मरीजों की खुराक

यदि मरीज बुजुर्ग है तो वह भी पतंजलि अणु तेल की निर्धारित खुराक का उपयोग कर सकते है। जिसको दिन में दो बार किसी भी समय अपनी नाक के माध्यम से लेना होगा। पतंजलि अणु तेल ड्राप के रूप में आता है, जिसको आप पुरे दिन में 2 बार अपनी नाक के माध्यम से ले सकते है, बुजुर्गो को इस तेल का लम्बे समय तक इस्तेमाल करना होगा।

पतंजलि अणु तेल में इस्तेमाल होने वाली सामग्री

बृहतीएजेंट या तत्‍व जो सूजन को कम करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।
शरीर में मौजूद ऑक्सीजन के मुक्त कणों को निकालने के लिए उपयोग होने वाले पदार्थ।
वह दवा या तत्व जो बुखार में शरीर के तापमान को कम करने के लिए इस्तेमाल किये जाते हैं।
दालचीनीचोट या संक्रमण के कारण होने वाली सूजन को कम करने वाली दवाएं।

श्‍वसन मार्ग में बलगम के स्राव में सुधार लाने वाली दवाएं।

क्रीम या घोल के रूप में माइक्रोबियल विकास को रोकने वाले घटक।
ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।

ये एजेंट सूक्ष्मजीवों के विकास और कार्यों के खिलाफ सहायक होते हैं।

यौन इच्‍छाओं को बेहतर करने वाले तत्‍व।
देवदारसूजन को कम करने वाली दवाएं।ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।
जीवंतीऐसा पदार्थ जिसमें यौन इच्छा को तीव्र करने की क्षमता होती है।ये दवाएं अवसाद के लक्षणों को नियंत्रित रखने में उपयोगी होती हैं।
पिठवनश्‍वसन मार्ग में बलगम के स्राव में सुधार लाने वाली दवाएं।
कंटकारीचोट या संक्रमण के कारण होने वाली सूजन को कम करने वाली दवाएं।
अनंतमूलदवा जो श्वास, घरघराहट, खांसी और सीने में जकड़न जैसे अस्‍थमा के लक्षणों को रोकने में मदद करती है

Patanjali Divya Anu Tail के लाभ वा दुष्प्रभाव

Patanjali Divya Anu Tail के लाभ

देखा जाए तो पतंजलि अणु तेल तीन बीमारियों में काफी लाभदायक है जिसमे मुख्य बीमारी बंद नाक को खोलना है वा साथ ही इस इस तेल के उपयोग से मरीज की आँखों की बीमारी वा गले के इन्फेक्शन को भी ठीक करती है।

Patanjali Divya Anu Tail के दुष्प्रभाव

चिकित्सा साहित्य में Patanjali Divya Anu Tail के दुष्प्रभावों के बारे में अभी किसी तरह की कोई सूचना नहीं मिली है। हालांकि, Patanjali Divya Anu Tail का इस्तेमाल करने से पहले मरीज को हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह-मशविरा जरूर करना चाहिए।

Patanjali Divya Anu Tail से जुड़े कुछ सवाल व उनके जवाब

क्या Patanjali Divya Anu Tail का उपयोग बच्चे कर सकते है?

जी हां बच्चों को Divya Anu Tail की खुराक दी जा सकती है, लेकिन अपने डॉक्टर से एक बार सलाह-मशविरा जरूर करे।

क्या Patanjali Divya Anu Taila का उपयोग गर्भवती महिला के लिए ठीक है?

रिसर्च कार्य न हो पाने के कारण Divya Anu Tail गर्भवती महिला के लेने या न लेने के दुष्प्रभावों के बारे में अभी कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है।

क्या Patanjali Divya Anu Tail लेने के बाद नींद आती है?

जी नहीं ऐसा कुछ नहीं है आप Patanjali Divya Anu Tail लेने के बाद आराम से ड्राइविंग कर सकते है।

क्या ज्यादा वक़्त तक Patanjali Divya Anu Tail का इस्तेमाल करने से इसकी आदत तो नहीं लग जाती है?

ऐसा नहीं है, लेकिन फिर भी आप एक बार अपने डॉक्टर से सलाह मशविरा कर ले।

Leave a Comment