मखाना विकास योजना: अगर आप भी करते है मखाना की खेती तो सरकार दे रही है, 72,750 रूपए की सब्सिडी – Purijankari

केंद्र सरकार की और से समय समय पर किसानो की सहायता के लिए कई तरह की योजनाए लागू की जाती है। जिसका मुख्य उद्देश्य किसानो की आय को बढ़ाना होता है, साथ ही कृषि विभाग और उद्यान विभाग की और से किसानो को विशेष फसल की खेती करने के लिए प्रोत्साहित भी किया जाता है।

जिसके लिए सरकार की और से किसानो को सब्सिडी दी जाती है, इसी तरह की एक योजना बिहार सरकार के द्वारा लागू की गई है, इस योजना में किसानो को मखाना उत्पादन बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया गया है, मखाना उत्पादन को बढ़ाने के लिए बिहार सरकार किसानो को 72,750 रूपए तक की सब्सिडी दे रही है।

Makhana Development Scheme : के अंतर्गत बिहार सरकार के द्वारा 8 अलग अलग जिलों को चुना गया है इन जिलों को ही इस योजना का लाभ दिया जाएगा। जिनमे अररिया, पुर्णिया, सुपौल, कटिहार, पश्चिम चम्पारण, सहरसा, दरभंगा और किशनगंज जिले शामिल है।

Makhana Vikash Yojana को शुरू करने के पीछे का मुख्य उद्देश्य उच्च प्रजाति के बीज का प्रत्यक्षण तथा क्षमता वर्धन के माध्यम से मखाना के उत्पादन को बढ़ाना है। राज्य सरकार की माने तो उन्नत प्रजाति के मखाना ककी खेती का खर्च करीब 97,000 रुपए तक आती है। इस योजना के माध्यम से उन 8 जिलों को 75 प्रतिशत की सब्सिडी प्रदान की जा रही है जो की 72,750 रूपए होती है।

यह भी पढ़े:- हाईटेक होगी खेती

बिहार राज्य सरकार की और से मखाने का उत्पादन बढ़ाने के लिए किसानो को उन्नत किस्म के बीज देने के साथ सब्सिडी भी दी जा रही है जिस वजह से मखाने के उत्पादन में काफी बढ़ोतरी की आशा है। राज्य सरकार की माने तो अभी मखाना का उत्पादन 16 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। लेकिन अब जो उन्नत किस्म के बीज राज्य सरकार द्वारा किसानो को दिए जा रहे है उनका अनुमान लगया जा रहा है के उन बीजो से मखाना उत्पादन बाद जायेगा और करीब 28 क्विंटल प्रति हेक्टेयर हो जाएगा।

मखाना विकास योजना के अंतर्गत सब्सिडी का लाभ प्रदान किया जा रहा है। इस योजना में 16 प्रतिशत अनुसूचित जाती और 1 प्रतिशत अनुसूचित जनजाति की भागीदारी सुनिश्चित की जानी है। साथ ही सभी वर्गों की 30 प्रतिशत महिलाओ की भागीदारी सुनिश्चित की गई है।

Makhana Vikash Yojana के तहत सब्सिडी प्राप्त करने के लिए किसानो को उद्यानिकी विभाग के पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा। आवेदन 14 दिसम्बर 2021 से शुरू किये जा चुके है जो 24 दिसम्बर 2021 तक किये जा सकेंगे। इस योजना के अंतर्गत सब्सिडी प्राप्त करने के लिए किसान horticulture.bihar.gov.in की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते है। साथ ही सीएससी पर जाकर भी किसान आवेदन कर सकते है।

किसानो को इस योजना में आवेदन करने के लिए ऑनलाइन आवेदन करने होंगे, जिसके लिए कुछ जरुरी दस्तावेजों की जरुरत होगी जो इस प्रकार है।

  • आधार कार्ड की कॉपी।
  • खेती की जमीन की कागजात की कॉपी।
  • बैंक पासबुक की कॉपी।
  • आवेदक का मोबाइल नंबर।

मखाना डेवलपमेंट स्कीम के तहत अभी तक तय किये गए जिलों के 686 किसानो के द्वारा आवेदन किया जा चूका है। आवेदन करने वाले किसानो को नियमानुसार सब्सिडी का डीबीटी कार्यक्रम के तहत सीएफएमएस द्वारा भुगतान किया जाएगा।

मखाना विकास योजना बिहार राज्य सरकार के द्वारा लागू की गई है।

इस योजना में अररिया, पुर्णिया, सुपौल, कटिहार, पश्चिम चम्पारण, सहरसा, दरभंगा और किशनगंज जिले शामिल है।

इस योजना के अंतर्गत किसानो को 72,750 रूपए की सब्सिडी दी जा रही है।

सब्सिडी पाने के लिए आपको ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन करना होगा।

Hi friends, we are a small team and we provide you with information related to government schemes and latest news. All the information we are collecting is from authentic sources. We hope you will like our content.