e nam रजिस्ट्रेशन: जानिए enam.gov.in पोर्टल पर ऑनलाइन किसान पंजीकरण प्रक्रिया

e nam registration process | enam.gov.in Portal | ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण | e nam portal | e nam login process | e nam Mobile app | e nam mandi list

e nam रजिस्ट्रेशन: देश में रहने वाले किसानो को अपनी फसलों को लेकर कई तरह की समस्याओ का सामना करना पड़ता है, उन्ही समस्याओ को हल करने के लिए देश के प्रधानमंत्री जी के द्वारा e nam रजिस्ट्रेशन नाम की योजना को आरंभ किया गया है। इस योजना को राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना के नाम से भी जाना जाता है।

यह योजना एक पैन-इंडिया इलेक्ट्रॉनिक व्यापार पोर्टल है, जो कृषि से संबंधित उपजो के लिए एक एकीकृत राष्ट्रीय बाजार का निर्माण करने के लिए मौजूदा एपीएमसी मंडी का एक प्रसार है। e nam Portal के द्वारा अब देश के किसान अपनी फसलों को किसी भी राज्य में बेच सकते है। वा बेचीं गई फसल का भुगतान ऑनलाइन अपने बैंक अकाउंट में प्राप्त कर सकते है।

यदि आप भी e nam Portal से जुडी जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आपको इस लेख को पढ़ना होगा जिसमे हमने पोर्टल से समस्त जानकारी दी है जिसमें हमने आवेदन प्रक्रिया, उद्देश्य, पात्रता, लाभ वा विशेषताओं के बारे में बताया है।

e nam पोर्टल क्या है?

e nam योजना को आरंभ करने में भारत सरकार की कृषि लघु कृषक कृषि व्यापार संघ (एसएफएसी) वा किसान कल्याण मंत्रालय जैसी प्रमुख एजेंसिया है। राष्ट्रीय कृषि बाजार /national agriculture market(e nam) एक अखिल भारतीय इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल है। जिसके द्वारा कृषि उत्पादों को राष्ट्रीय बाजार बनाने हेतु मौजूदा एपीएमसी मंडियों को ऑनलाइन नेटवर्क से जोड़ा जाता है। जिससे देश में रहने वाले किसानो को काफी फायदा होगा।

अब देश में रहने वाले किसान e naam पोर्टल के माध्यम से घर बैठे ही अपनी फसलों को ऑनलाइन बेच सकेंगे। अपनी फसलों को ऑनलाइन बेचने के लिए किसानो को enam.gov.in की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपने पंजीकरण हेतु ऑनलाइन आवेदन करना होगा।

e nam portal

योजना का नामe nam रजिस्ट्रेशन
किनके द्वारा आरंभ की गईभारत के प्रधानमंत्री जी के द्वारा
योजना का मुख्य उद्देश्यदेश में रहने वाले किसानो को अपनी फसल
बेचने में होने वाली समस्या का समाधान करना
योजना से जुड़े लाभार्थीभारत देश में रहने वाले किसान
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन
आधिकारिक वेबसाइटenam.gov.in

e nam पोर्टल का मुख्य उद्देश्य

देश के किसानो को कई तरह की समस्याओ का समाना करना पड़ता है जिनमे से एक फसल उत्पादन के बाद अपनी फसलों को बेचना भी है। कई किसानो की फसलों को बिचोलियो के द्वारा खरीद कर बेचा जाता है। वा कई ऐसे भी किसान है जिनको अपनी फसल बेचने के काफी समस्या आती है इन्ही समस्याओ को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार के द्वारा राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई नाम ) पोर्टल को आरंभ किया गया है।

अब देश में रहने वाले किसान अपनी फसलों को बेचने के लिए enam ऑनलाइन आवेदन पत्र भरकर खुद को विक्रेता के रूप में पंजीकृत कर सकेंगे वा अपनी फसल का उचित दाम प्राप्त कर सकेंगे। वा अपनी बेचीं गई फसल का पैसा अपने बैंक अकाउंट में प्राप्त कर सकेंगे।

यह भी पढ़े:- Pradhanmantri Fasal Bima Yojana

e nam पोर्टल की तीन नयी सुविधाओं को किया गया पांचवी वर्षगाठ पर लॉन्च

किसानो की समस्याओ का निराकरण करने हेतु आरंभ की गई ई नाम योजना को 20 अप्रैल 2021 को पुरे 5 साल कम्प्लीट हो चुके है। इस पांचवी वर्षगाठ पर केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर जी के द्वारा किसानो के लिए तीन नयी सुविधाओं को लांच किया गया है। केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर जी ने इस तीन सुविधाओं के अंतर्गत उपज से सम्बंधित किसानो की सुविधाओं के लिए ई-नाम पर मंडी जानकारी पृष्ठ, ई-नाम प्लेटफॉर्म के साथ आईएमडी मौसम पूर्वानुमान सूचना का एकीकरण और सहकारी मॉड्यूल को लॉन्च किया है।

ई-नाम पर मंडी जानकारीयह सुविधा देश के किसानो को इ नाम मंडी पोर्टल पर
बेचीं जाने वाली उपजो को वास्तविक समय वा मूल्य
प्रदान करने के लिए शुरू की गई है।
सहकारी मॉड्यूलइस सुविधा के अंतर्गत सहकारी समिति उपजो को अपने
गोदामों से एपीएमसी पर लाए बिना ही किसान अपने खेत
के पास अपनी फसल का व्यापार कर सकते है।
आईएमडी मौसम पूर्वानुमान
सूचना का एकीकरण
इस सुविधा के अंतर्गत किसानो को पहले ही मौसम की
जानकारी प्रदान कर दी जाएगी जैसे आंधी ,तूफान की सूचना
और न्यूनतम तापमान की सूचना की प्रदान की जाएगी व इसके
अलावा वर्षा वाले क्षेत्रों की भी जानकारी प्रदान की जाएगी।
जिससे किसानो को अपनी फसल कटाई वा खेती से जुड़े निर्णय
लेने में सहायता मिलेगी।

e nam पोर्टल की सफलता

अब तक इस योजना के अंतर्गत देश के करीब 1.70 करोड़ से अधिक किसान वा 1.63 लाख से ज्यादा व्‍यापारी ई-नाम पंजीकरण पोर्टल पर अपने आपको पंजीकृत करवा चुके है। इस योजना के आरंभ होने पर ई नाम पोर्टल पर 1000 मंडियों को जोड़ा गया था। जिससे ई नाम पोर्टल काफी हद तक सफल रहा, इसी सफलता को देखते हुए केन्दीय कृषि मंत्री जी के द्वारा ई नाम पोर्टल पर 1000 मंडियों को पोर्टल पर जोड़ने का निर्णय लिया गया है। अब देश के अलग अलग राज्यों के किसान अपनी फसलों को ऑनलाइन के माध्यम से बेचने के लिए अपनी फसल को अपलोड कर सकेंगे वा आसानी से घर बैठे ही अपनी फसल को बेच सकेंगे।

यह भी पढ़े:- SMAM Kisan Yojna

ई-नाम पोर्टल की विशेषताएं

  • अब किसी भी राज्य का किसान किसी दूसरे राज्य में अपनी फसल को आसानी से बेच पाएगा।
  • सरकर के द्वारा इस साल ई नाम पोर्टल पर 200 मंडियों को जोड़ा जाएगा वा अगले साल 215 और भी मंडियों को पोर्टल में शामिल किया जाना है।
  • इस पोर्टल का कार्यान्वयन लघु कृषक कृषि व्यापारी संघ के द्वारा किया जाता है।
  • किसानों को अब बिचौलियों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा इस पोर्टल के आरंभ होने की वजह से अब किसान मंडियों में अपनी फसलें सीधे भेज सकेंगे।
  • 14 अप्रैल 2016 को इस पोर्टल की शुरूआत की गई थी। जिसके माध्यम से किसान अपनी फसल देश की किसी भी मंडी में भेज सकते हैं।

ई-नाम पोर्टल के लाभ

  • इस पोर्टल पर आपको सभी ए।पी।एम।सी से जुडी सूचना और सेवाओं आसानी से एक ही स्थान पर मिल जाती है। इसमें अन्य सेवाओं के बीच उपज के आगमन और कीमतों, व्यापार प्रस्तावों को खरीदने और बेचने, व्यापार प्रस्तावों पर प्रतिक्रिया के लिए प्रावधान शामिल हैं।
  • अब देश में रहने वाले किसान इस पोर्टल के माध्यम से आसानी से अपनी फसलों को ऑनलाइन बेच सकेंगे। वा अधिक से अधिक लाभ प्राप्त कर सकेंगे।
  • केंद्र सरकार का उद्देश्य इस योजना के माध्यम से किसानो को अधिकतम लाभ प्रदान करना है।
  • ई-नाम पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन मार्केट प्लेटफॉर्म पारदर्शी नीलामी प्रक्रिया को बेहतर कीमत की खोज प्रदान करेगा वा साथ ही कृषि वस्तुओ में अखिल भारतीय व्यापार की सुविधा भी प्रदान करेगा।
  • अब किसानो को अपनी फसल बेचने के लिए बिचोलियो पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। सरकार के द्वारा अब तक देश की करीब 585 मंडियों को ई-नाम के तहत जोड़ा है !
  • हरियाणा की 2 और मंडियों को अंबाला और शाहबाद को 1 जून 2016 को ई-नाम पर डाला गया है। इस आधार पर, 31 अक्टूबर 2017 तक देश की पहली 470 मंडियों को ई-नाम के साथ एकीकृत किया जाएगा।
  • पोर्टल पर अब व्यापार और मूल्य पर वास्तविक समय की जानकारी वा बेहतर मूल्य खोज के माध्यम से व्यापार में पारदर्शिता, राज्य भर के बाजारों तक विस्तारित पहुंच, वस्तुओं की गुणवत्ता की जानकारी, पारदर्शी ई-बोली प्रक्रिया, सीधे ऑनलाइन भुगतान यह सभी सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

यह भी पढ़े:- आयुष्मान भारत योजना लिस्ट

ई-नाम पोर्टल रजिस्ट्रेशन हेतु पात्रता वा आवश्यक दस्तावेज

  • इस योजना का लाभ देश में रहने वाले किसान ही उठा सकते है।
  • आवेदनकर्ता का पहचान पत्र
  • आवेदनकर्ता का आधार कार्ड
  • आवेदनकर्ता की बैंक पासबुक
  • आवेदनकर्ता का मोबाइल नंबर
  • आवेदनकर्ता का पासपोर्ट साइज फोटो

e nam Portal पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया

यदि आप भी एक किसान है और ई-नाम पोर्टल पर अपना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना चाहते है तो निचे दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करे।

  • सबसे पहले आवेदनकर्ता को इ नाम की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज ओपन हो जाएगा।
  • होम पेज पर आपको Registration का विकल्प दिखाई देगा आपको इस विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करते ही आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर रजिस्ट्रेशन फॉर्म ओपन हो जाएगा।
  • इस रजिस्ट्रेशन फॉर्म में आपको पूछी गयी सभी महत्वपूर्ण जानकारी को दर्ज करना होगा जिनमे रजिस्ट्रेशन टाइप, रजिस्ट्रेशन लेवल, नाम , जेंडर, पता, जन्मतिथि, आधार नंबर , बैंक विवरण जैसी सभी जानकारी को दर्ज करना होगा। वा किसानों को पासबुक की कॉपी या रद्द किए गए चेक और आईडी प्रूफ की स्कैन कॉपी भी अपलोड करनी होगी।
  • सभी महत्वपूर्ण जानकारी दर्ज करने के पश्चात आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा ।
  • किसानों को भविष्य के संदर्भ के लिए जमा किए गए आवेदन पत्र का प्रिंटआउट लेना होगा। पंजीकरण प्रक्रिया पूरी होने पर, किसान मंडियों में अपने कृषि उत्पादों को बेचने के लिए लॉगिन कर सकते हैं।

यह भी पढ़े:- Kisan Samman Nidhi Yojana List

e nam Portal पर लॉगिन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आवेदनकर्ता को इ नाम की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज ओपन हो जाएगा।
  • होम पेज पर आपको Login Here का विकल्प दिखाई देगा आपको इस विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करते ही आपके सामने लॉगइन फॉर्म ओपन हो जाएगा।
  • इस लॉगिन फॉर्म में आपको अपना यूजर नेम, पासवर्ड, अपनी भाषा वा कैप्चा कोड को दर्ज करना होगा।
  • अब आपको निचे लॉगिन के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा।
  • क्लिक करते ही आप पोर्टल पर आसानी से लॉगिन हो जाएंगे।

e nam मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

यदि आप अपने एंड्राइड मोबाइल में e nam मोबाइल ऐप डाउनलोड करना चाहते है तो आपको निचे दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करना होगा।

  • सबसे पहले आपको अपने एंड्राइड मोबाइल में गूगल प्ले स्टोर को ओपन करना होगा।
  • यहाँ आपको सर्च बॉक्स में e nam लिख कर सर्च के विकल्प पर इंटर करना होगा।
  • क्लिक करते ही आपके सामने कई सारे विकल्प आपके सामने आ जाएंगे।
  • जिनमे से आपको सबसे पहले वाले विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करने के पश्चात आपको इनस्टॉल के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करते ही e nam ऐप आपके मोबाइल में डाउनलोड होना शुरू हो जाएगा।

यह भी पढ़े:- Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana

कांटेक्ट करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आवेदनकर्ता को इ नाम की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज ओपन हो जाएगा।
  • होम पेज पर आपको Contact Us का विकल्प दिखाई देगा आपको इस विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको कांटेक्ट परपस के विकल्प का चयन करना होगा।
  • अब आपको अपना नाम, कांटेक्ट नंबर, एड्रेस, डिस्क्रिप्शन, ईमेल आईडी, वा कैप्चा कोड को दर्ज करना होगा।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के पश्चात आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस तरह आप कांटेक्ट कर पाएंगे।

e nam रजिस्ट्रेशन किसान हेल्पलाइन (टोल फ्री) नंबर

हमारे द्वारा लिखे गए लेख में हमने e nam रजिस्ट्रेशन से जुडी सभी महत्वपूर्ण जानकारी आपके साथ साझा की है, यदि आपको अभी भी किसी प्रकार की समस्या का सामना करना पड रहा है तो आप निचे दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके या ईमेल लिख कर अपनी समस्या का निराकरण कर सकते है।

  • हेल्पलाइन (टोल फ्री) नंबर: 1800 270 0224
  • ईमेल आईडी: [email protected][email protected]
  • आधिकारिक वेबसाइट: https://enam.gov.in/web/

Contact us

NCUI Auditorium Building, 5th Floor, 3, Siri Institutional Area,August Kranti Marg, Hauz Khas,New Delhi – 110016.PhoneHelp Desk No.: 1800 270 0224Fax+91-11- 26862367EmailEmail id- nam[at]sfac[dot]in, enam[dot]helpdesk[at]gmail[dot]comOffice Time: 09:30 AM. to 06:00 PM.

Leave a Comment