लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए योजनाएं | लड़कियों के लिए सरकारी योजना 2022

लड़कियों के लिए सरकारी योजना 2022 जैसा की हम सब जानते ही हैं की भारत में पहले बहुत कम लड़कियों को शिक्षा के लिए स्कूल नहीं भेजा जाता था और बहुत ही कम आयु में लड़कियों की शादी करवा दी जाती थी। पर जैसे-जैसे समय बढ़ता जा रहा हैं लोगो की यह मानसिकता कम होती जा रही हैं और माता-पिता अब अपनी बच्चियों को उच्च शिक्षा दिला रहे हैं।

और इस मानसिकता को बदलने में केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार का बहुत ही बड़ा योगदान रहा हैं और आगे भी रहेगा। आज भारत देश में कई ऐसे भी इलाके हैं जहा लड़कियों को ज्यादा पढ़ाया नहीं जाता हैं और उनकी शादी करा दी जाती हैं। इसके कई कारण हो सकते हैं जैसे की परिवार का गरीब होना या फिर लड़कियों की सुरक्षा इतियादी।

यह भी पढ़े: National Scholarship Portal

इसी बात का ध्यान रखते हुए केंद्र एवं राज्य सरकार ने लड़कियों के लिए सरकारी योजना निकाली हैं। ऐसी ही केंद्र अथवा राज्य सरकार द्वारा जारी की गयी लड़कियों के लिए सरकारी योजना एवं लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए योजनाएं के बारे में हम आपको बतायेगे ताकि आप आसानी से इन योजनाओ का लाभ ले पाए और अपने आस-पास के जरूरतमंद परिवारों को भी इन ladkiyo ke liye sarkari yojana 2022 के बारे में बताये।

क्योकि बहुत सारे लोगो को ऐसी योजनाओ के बारे में पता नहीं होता हैं और वो इनका लाभ नहीं उठा पाते हैं। तो आइये जानते हैं लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए योजनाओ के बारे में।

Contents

लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए केन्द्र की योजनाएं

लड़कियों के लिए सरकारी योजना

जैसा की हम सब जानते ही हैं की केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार भारत की बेटियों के लिए कई सारी योजनाए निकलती रहती हैं। पर बहुत ही कम लोगो को इन योजनाओ के बारे में पता होता हैं। तो इसीलिए आपको आसानी से समझने के लिए हमने लड़कियों के लिए सरकारी योजना को दो केटेगरी में डाला हैं एक लड़कियों के लिए केन्द्र सरकार की योजनाएं एवं दूसरी लड़कियों के लिए राज्य सरकार की योजनाए।

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY)

सुकन्या समृद्धि योजना की शुरुआत केंद्र सरकार ने बेटी बढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान के अंतर्गत की हैं। यह एक छोटी बचत योजना हैं जिसके अंतर्गत लाभार्थी को Sukanya Samriddhi Yojana (SSY) के अंर्गत बेहतर ब्याज मिलता हैं। इस योजना के अंतर्गत मिलने वाला ब्याज इनकम टैक्स के अंतर्गत नहीं आता हैं। क्योकि निवेश आयकर अधिनियम धारा 80C के अंतर्गत इसके लिए टैक्स में छूट दी गयी हैं। सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत लड़की के 18 वर्ष की आयु हो जाने पर उसकी उच्च शिक्षा के लिए 50 प्रतिशत पैसा निकाला जा सकता हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना 2022 क्या है?

यह एक छोट बचत योजना के जिसमे लड़की के जन्म के बाद एवं 10 साल होने के पहले बहुत ही कम राशि मात्र 250 रुपये के साथ खाता खुलवाया जा सकता हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना कब लागू हुआ?

Sukanya Samriddhi Yojana को 4 दिसंबर, 2014 को लागू किया गया था।

सुकन्या योजना में कितने पैसे जमा करने पड़ते हैं?

चालु वित्तीय वर्ष 2022-23 Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत अधिकतम 1.5 लाख रुपये वार्षिक जमा करवा सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना में कितना पर्सेंट ब्याज मिलता है?

इस चालू वित्तीय वर्ष 2022-23 में लाभार्थी 7.6 प्रतिशत का सालाना ब्याज प्राप्त कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना में क्या क्या डॉक्यूमेंट चाहिए?

इसके लिए आपको अपनी बिटिया का जन्म प्रमाण पत्र, माता-पिता का आधार कार्ड, फोटो, पते का प्रमाण पत्र इतियादी देना होगा।

सुकन्या समृद्धि योजना का फॉर्म कैसे भरें?

अगर आप भी अपनी बिटिया का भविष्य सवारने के लिए Sukanya Samriddhi Yojana 2022 का लाभ लेना चाहते हैं तो अपने नजदीकी पोस्ट ऑफिस या कमर्शियल ब्रांच की अधिकृत शाखा में जाकर इस योजना के लिए फॉर्म भर सकते हैं एवं खाता खुलवा सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना का पैसा कब मिलेगा?

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत लड़की के 18 वर्ष की आयु हो जाने पर उसकी उच्च शिक्षा के लिए 50 प्रतिशत पैसा निकाला जा सकता हैं। इसके अलावा लड़की की 21 वर्ष की आयु होने तक या फिर 18 वर्ष के बाद उसकी शादी होने तक यह खाते को चलाया जा सकता हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के नियम क्या-क्या हैं?

इस योजना के अंतर्गत क़ानूनी रूप से अभिभावक या बच्ची के माता-पिता बच्ची के नाम से उसकी 10 वर्ष की आयु के पहले यह खता खुलवा सकते हैं। Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत एक बच्ची का सिर्फ एक खता ही खुलवाया जा सकता हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना से क्या लाभ है?

Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत चालू वित्य वर्ष के अंतर्गत 7.6 प्रतिशत का सालाना ब्याज एवं क्योकि निवेश आयकर अधिनियम धारा 80C के अंतर्गत इसके लिए टैक्स में छूट दी जाती हैं।

SSY का फुल फॉर्म क्या हैं?

SSY का फुल फॉर्म Sukanya Samriddhi Yojana हैं।

सीबीएसई छात्रवृत्ति योजना

सीबीएसई छात्रवृत्ति योजना की शुरुआत केंद्र सरकार द्वारा केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के जरिये की गयी हैं। CBSE Chatravriti Yojana का मुख्या उददेश्य शिक्षा को लड़कियों के लिए बढ़ावा देना एवं आर्थिक रूप से सहायता करना हैं।

इस योजना के अंतर्गत केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के जरिये जिन बालिकाओ ने CBSE 10वीं बोर्ड के अंतर्गत 60 प्रतिशत अंक लाने पर प्रतिमाह 500 रुपये की छात्रवर्ती दी जाती हैं।

और साथ ही वो आगे की पढ़ाई 11वीं एवं 12वीं CBSE एफिलिएट स्कूल में कर रही हो। इसके अलावा लाभार्थी को अपने माता-पिता की एक मात्र संतान होना जरुरी हो।

अगर आप भी सीबीएसई छात्रवृत्ति योजना के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो आप सीबीएसई की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर फॉर्म भर सकते हैं।

बालिका समृद्धि योजना (BSY)

लड़कियों के लिए सरकारी योजना बालिका समृद्धि योजना (BSY)

Balika Samridhi Yojana (BSY) को 1997 में शुरू किया गया था। जिसका मुख्या उददेश्य बालिकाओ के जन्म एवं शिक्षा के लिए लोगो को जागरूक करना हैं। इस योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार बेटी के जन्म होने पर प्रसव के समय 500 रुपये की धनराशि देती हैं। और इसके साथ ही स्कूल जाने पर हर साल छात्रवर्ती भी दी जाती हैं।

यह योजना शहर एवं गांव दोनों में लागू हैं। वही अगर हम ग्रामीण इलाकों की बात करे तो बालिका समृद्धि योजना (BSY) को ICDS द्वारा कार्यान्वन किया जाता हैं और शहर इलाकों में शहरी स्वास्थय विभागों द्वारा। इस योजना का लाभ सिर्फ BPL कार्ड धारक ही उठा सकते हैं। और सिर्फ दो बेटियों को ही Balika Samridhi Yojana (BSY) का लाभ मिलता हैं।

इस योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार बेटी के जन्म होने पर प्रसव के समय 500 रुपये की धनराशि देती हैं। और इसके साथ ही स्कूल जाने पर हर साल छात्रवर्ती भी दी जाती हैं। यह योजना शहर एवं गांव दोनों में लागू हैं।

वही अगर हम ग्रामीण इलाकों की बात करे तो बालिका समृद्धि योजना (BSY) को ICDS द्वारा कार्यान्वन किया जाता हैं और शहर इलाकों में शहरी स्वास्थय विभागों द्वारा। इस योजना का लाभ सिर्फ BPL कार्ड धारक ही उठा सकते हैं। और सिर्फ दो बेटियों को ही Balika Samridhi Yojana (BSY) का लाभ मिलता हैं।

बालिका समृद्धि योजना (BSY) के लिए कैसे आवेदन करे?

अगर आप इस योजना के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो अगर आप ग्रामीण इलाके से आते हैं तो आंगनवाड़ी कार्यकर्ता से संपर्क कर सकते हैं। और अगर आप शहरी इलाके से आते हैं तो हेल्थ फंक्शनअरी पर जाना होगा।

बालिका समृद्धि योजना की छात्रवृत्ति राशि कितनी हैं?

बालिका समृद्धि योजना की छात्रवृत्ति के अंतर्गत कक्षा के हिसाब से छात्रवृत्ति प्रदान की जाती हैं-
• कक्षा 1 से 3 ₹300
• कक्षा 4 ₹500
• कक्षा 5 ₹600
• कक्षा 6 से 7 ₹700
• कक्षा 8 ₹800
• कक्षा 9 से 10 ₹1000

लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए राज्य की योजनाएं

केंद्र सरकार की योजना के अलावा आप राज्य सरकार द्वारा शुरू को गयी लड़कियों के लिए उच्च शिक्षा की योजनाओ का लाभ भी ले सकते हैं। इन योजनाओ का लाभ लेने के लिए आपको उस राज्य का निवासी होना जरुरी हैं। तो आइये जानते हैं राज्य सरकार द्वारा शुरू की गयी बेटियों के लिए योजनाओ के बारे मे।

मध्य प्रदेश लाड़ली लक्ष्मी योजना 2.0

मध्य प्रदेश लाड़ली लक्ष्मी योजना 2.0

मध्य प्रदेश लाड़ली लक्ष्मी योजना 2.0 की शुरुआत मध्य प्रदेश के मुख्या मंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 01 अप्रैल 2007 में शुरू की गयी थी। इस योजना के कई उद्देश्य हैं जैसे कन्या भ्रूण हत्या/शिशु हत्या को रोकना, लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए सहायता प्रदान करना और बढ़ावा देना, कानूनी रूप से स्वीकृत उम्र में विवाह को प्रोत्साहित करना, समाज में बालिकाओं के जन्म के प्रति सकारात्मक सोच पैदा करना।

इस योजना के अंतर्गत मध्य प्रदेश सरकार ने लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए काई सारे लाभ प्रदान किये हैं तो आइये जानते हैं इसके बारे में विस्तार से।

  • इस योजना के अंतर्गत मध्यप्रदेश सरकार द्वारा रूपये 1,18000/- का आश्वासन प्रमाण पत्र जारी किया जाता है।
  • मध्य प्रदेश सरकार द्वारा लाड़ली लक्ष्मी योजना के अंतर्गत कक्षा 6 वीं में प्रवेश लेने पर रूपये 2000/-, कक्षा 9 वीं में प्रवेश लेने पर रू. 4000/-, कक्षा 11 वीं में प्रवेश लेने पर रूपये 6000/- एवं कक्षा 12वीं में प्रवेश लेने पर रू. 6000/- छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है।
  • जब बालिका 12वी कक्षा पास कर लेती हैं तो स्नातक अथवा व्यवसायिक पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने पर मध्य प्रदेश सरकार रूपये 25000/- की प्रोत्साहन राशि दो समान किश्तों में पाठ्यक्रम के पहले एवं अंतिम वर्ष में दी जाएगी।
  • सरकार द्वारा बालिकाओ की स्नातक की उच्च शिक्षा के लिए शिक्षण शुल्क सरकार द्वारा उठाया जाएगा।
  • अगर बालिका की आयु 21 वर्ष हो जाती हैं एवं 12 वी की परीक्षा में सम्मिलित होने पर एवं बालिका का विवाह क़ानूनी उम्र के तहत राशि रुपये 1 लाख का अंतिम भुगतान किये जाने का प्रावधान है।

राजस्थान मुख्यमंत्री राजश्री योजना

मुख्यमंत्री राजश्री योजना का मुख्या उद्देश्य लड़कियों के प्रति सकारात्मक सोच लाना हैं ताकि कन्या भ्रूण हत्या/शिशु हत्या रुके और समाज लड़कियों को शिक्षा प्रदान करने के लिए स्कूल एवं कॉलेज भेजे। इस योजना का लाभ 1 जून 2016 या उसके बाद जन्म लेने वाली बालिकाओं को मिल रहा हैं।

मुख्यमंत्री राजश्री योजना के अंतर्गत बेटी के जन्म के समय ₹2,500, 1 वर्ष के टीकाकरण पर ₹2,500, पहली कक्षा में दाखिल होने पर ₹4000, छठी कक्षा में दाखिल होने पर ₹5000, 10वीं कक्षा में दाखिल होने पर ₹11,000, 12वीं कक्षा में दाखिल होने पर ₹25000 राशि प्रदान की जाती हैं।

हरियाणा लाडली योजना

लाडली योजना हरियाणा सरकार के द्वारा शुरू की गयी योजना हैं। हरियाणा लाड़ली योजना का मुख्या उद्देश्य कन्या भ्रूण हत्या को रोकना और लड़कियों के लिए जो गलत धारणा बनी हैं उसे खतम करना हैं। अगर आप हरियाणा के स्थायी निवासी हैं और आपकी दो बेटीया हैं जिनका जन्म 20 अगस्त 2005 के बाद हुआ तो आप इस योजना का लाभ ले सकते हैं।

इस योजना के अंतर्गत राज्य सरकार बेटियों को हर साल 5000 रुपये प्रदान करेगी। सरकार द्वारा यह मदद किसान विकास पत्र के जरिए दी जाएगी। जब बेटी की उम्र 18 साल की हो जायेगी तो आपको यह पैसा ब्याज समेत मिल जाएगा। जिसे आप अपनी बेटी की उच्च शिक्षा के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

महाराष्ट्र माझी कन्या भाग्यश्री योजना

महाराष्ट्र माझी कन्या भाग्यश्री योजना की शुरुआत 1 अप्रैल 2016 को महाराष्ट्र सरकार द्वारा शुरू की गयी थी। इस योजना का उद्देश्य BPL और समाज के अन्य कमजोर वर्गों के बीच बालिकाओं की स्थिति में सुधार करना हैं।

महाराष्ट्र माझी कन्या भाग्यश्री योजना के अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा बेटी के जन्म लेने के बाद 5 वर्षों तक हर साल 5000 रु. दिए जाते हैं। इसके बाद जब बेटी कक्षा 5 वीं में दाखिला लेती तब तक बालिका को 2500 रु. प्रति वर्ष प्रदान किये जाते हैं। इसके बाद बालिका कक्षा 12 में दाखिला न ले तब तक 3000 रू. प्रति वर्ष प्रदान किया जाता हैं। जब बेटी की आयु 18 वर्षा हो जाती है तो सरकार उच्च शिक्षा के लिए 1 लाख रु. प्रदान करती हैं।

बिहार मुख्यमंत्री कन्या सुरक्षा योजना

बिहार मुख्यमंत्री कन्या सुरक्षा योजना का मुख्या उदेश्य लिंगानुपात में सुधार लाना, कन्या भ्रूण हत्या को रोकना एवं लड़कियों को शिक्षा प्रदान कराने के लिए बढ़ावा देना।

बिहार मुख्यमंत्री कन्या सुरक्षा योजना के अंर्तगत बीपीएल श्रेणी में आने वाले एवं 22 नवंबर, 2007 को या उसके बाद जन्म लेने वाली बालिकाओ के लिए 2000/ – रुपये का योगदान प्रदान करती हैं। बिहार सकरार द्वारा यूको एवं आईडीबीआई बैंक में ₹2000 की राशि का बालिकाओ के लिए निवेश की जाती हैं। जब बेटी की आयु 18 वर्ष हो जाती हैं तो परिपक्वता मूल्य के बराबर राशि का भुगतान किया जाता है। इस राशि का इस्तेमाल आप अपनी बेटियों की उच्च शिक्षा के लिए कर सकते हैं।

हम आशा करते हैं आपको लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए योजनाएं बहुत ही मदद करेगी। अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो और अच्छा लगा हो तो आप शेयर कर सकते हैं। ताकि सभी लोग इस योजना के बारे में जान पाए और इनका लाभ ले पाए। आप पूरी जानकारी पर अन्य योजनाओ के बारे में भी जान सकते हैं।

Leave a Comment