Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana: पीएम कृषि सिंचाई योजना से जुडी जानकारी

Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana: प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना को लागू करने के पीछे का मकसद हमारे देश के किसानो को लाभ पहुंचने के लिए की गई है। इस योजना की शुरुआत हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा की गई है। इस योजना को लागु करने का मुख्य उद्देश्य देश के किसानो के द्वारा खेतो की सिचाई में उपयोग होने वाली सिचाई सामग्री के लिए सब्सिडी प्रदान की जाएगी।

इसके अलावा किसानो को सब्सिडी उन सभी योजनाओ के लिए प्रदान की जाएगी जैसे पानी की बचत, मेहनत में कमी और खर्चो में भी कटौती हो सकेगी। जिसके द्वारा किसानो को खेती में सिचाई करने में सहूलियत होगी। आज का हमारा यह आर्टिकल PMKSY 2021 पर आधारित है, जिसमे आपको सारी जानकारी प्रदान करने वाले है। अतः हमारे इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े।

प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021-22 | Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana

Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana

जैसा की हम सभी जानते है अनाज के लिए खेती बहुत ज्यादा जरूरी है और खेती को सिचाई करके ही बेहतर किया जा सकता है। सिंचाई के लिए खेतो में पानी की अधिक आवश्यकता होती है। अगर खेतो में सही तरीके से सिंचाई नहीं होगी तो फसल ख़राब होने के चांस बाद जाएंगे। PMKSY 2021 योजना के अंतर्गत किसानो को हो रही इन समस्याओ को दूर किया जाएगा तथा किसानो को सिंचाई के लिए कम पड़ रहे पानी की कमी को पूरी की जाएगी।

Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana के अंतर्गत आने वाली सेल्फ हेल्प ग्रुप, सरकारी समिति, ट्रस्ट, इंकॉर्पोरेटेड कंपनियां, तथा उत्पादक कृषकों के समूहों के सदस्यो तथा अलग-अलग प्राप्त संस्थानों के सदस्यों को भी लाभ प्रदान किए जाएंगे। इसके अलावा PMKSY 2021 के अंतर्गत केंद्र सरकार की और से इस योजना के लिए 50,000 करोड़ रुपयों की धनराशि निश्चित किया गया है।

PM Krishi Sinchai Yojana का विस्तार 2026 तक किया जाएगा

केंद्रीय मंत्रिमंडल के द्वारा 15 दिसम्बर 20121 को प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना 5 वर्ष तक विस्तृत करने 2026 तक संचालित करने का फैसला किया गया है। जिस पर लगभग 93068 करोड़ रूपए का खर्चा आने का आकलन किया गया है। इस फैसले को आर्थिक आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति की बैठक के द्वारा लिया गया गया है बता दे के इस बैठक के अध्यक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थे।

इस निर्णय के विषय में जानकारी केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर और जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के द्वारा संवाददाताओं को दी गई। इस योजना का लाभ तक़रीबन 22 लाख किसान उठा पाएंगे। जिनमे से 2.5 लाख अनुसूचित जाती से होंगे और 2 लाख किसान अनुसूचित जनजाति से होंगे।

इस योजना पर तक़रीबन 93068 करोड़ रूपए का खर्चे आने का अनुमान लगाया जा रहा है। जिसमे केंद्र सरकार के द्वारा 37454 करोड़ रुपए की सहायता प्रदान की जाएगी। इसके अलावा सीसीईए के द्वारा अलग अलग राज्यों के लिए 37454 करोड़ रुपए की केंद्रीय सहायता के अलावा प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2016 के सिचाई विकास के लिए भारत सरकार द्वारा लिए गए ऋण को चुकाने के लिए 20434.56 करोड़ रुपए मंजूर किए गए है।

15 सितंबर 2021 तक उदयपुर के किसान कर सकते हैं आवेदन

पीएम कृषि सिंचाई योजना के अंतर्गत बागवानी कर रहे किसानो को ड्रीप प्लांट लगाने पर 70% सब्सिडी की राशि प्रदान की जाएगी। एवं सीमांत किसानों को 50% सब्सिडी की राशि प्रदान की जाएगी। इस बात की जानकारी डॉ के एन सिंह द्वारा प्रदान की गई जो की डिप्टी डायरेक्टर है।

इसके अलावा छोटे और सीमांत किसानो को 60% की सब्सिडी प्रदान की जाएगी, एवं अन्य किसानो को 50% सब्सिडी प्रदान की जाएगी। किसानो को इस योजना का लाभ उठाने के लिए ऑनलाइन आवेदन करना होगा। किसान भाई यह आवेदन राज किसान साथी पोर्टल पर ई मित्र के द्वारा किया जा सकता है।

उदयपुर के किसान इस योजना के अंतर्गत 15 सितंबर 2021 आवेदन तक कर सकते है। इस योजना का लाभ पहले आओ पहले पाओ के आधार पर किया जाएगा। साथ ही आवेदन पत्र भरने के लिए ट्रेस माप, जमाबंदी, सॉइल वॉटर टेस्ट रिपोर्ट, बिजली का बिल, प्लांट कोटेशन, आधार कार्ड आदि होना आवश्यक है।

कृषि सिंचाई योजना के लिए आर्थिक सहायता

यह तो हम सभी जान गए है कि पीएम कृषि सिंचाई योजना को केंद्र सरकार कि द्वारा शुरू किया गया है। साथ ही यह भी जान गए होंगे कि इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य सिंचाई उपकरण खरीदने पर सब्सिडी मुहैया कराना है, जिसके द्वारा खेतो में सिचाई कि लिए पानी पहुंच सके। इस योजना कि अंतर्गत किसानो की होने वाली आय में भी वृद्धि होगी।

पीएम कृषि सिंचाई योजना को आरम्भ करने कि पीछे देश में हो रहे अलग अलग जिले में पानी की कमी को ध्यान में रखते हुए आंरभ किया गया है। जिसके द्वारा फसल की गुणवत्ता सुनिश्चित की जा सके।

इस योजना का मुख्य खेतो में हो रही पानी की कमी को सरकार द्वारा सभी खेतो को पानी मुहैया करना है। जिसके लिए कमांड क्षेत्र विकास एवं जल प्रबंधन मंत्रालय द्वारा वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। किसानों को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए इन वित्तीय सहायता का उपयोग किया जाएगा। जिसके द्वारा किसानो के खेतो तक पानी पहुंच सके, देखा जाए तो किसानो को इस योजना के माध्यम से पानी की कमी का सामना नहीं करना होगा।

यह भी जाने: Pradhanmantri Fasal Bima Yojana सम्पूर्ण जानकारी

Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana: 2021

योजना का नामप्रधानमंत्री कृषि सिचाई योजना (PMKSY 2021)
इनके द्वारा शुरू की गयीपीएम नरेंद्र मोदी जी
शुरू करने की तिथिवर्ष 2015
लाभार्थीदेश के किसान
ऑफिसियल वेबसाइटhttp://pmksy.gov.in/

(PMKSY 2021) के अंतर्गत 1706 करोड़ रूपए अप्रूव किए गए

जैसा की आपको हमने बताया के किसानो की सहायता के लिए सरकार के द्वारा PMKSY 2021 को आरम्भ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत किसानो को खेतो में सिंचाई के लिए पानी की कमी को दूर करना है। 22 दिसम्बर 2020 को मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में एक वर्चुअल केबिनेट मीटिंग संचालित की गई थी।

इस मीटिंग के द्वारा कैबिनेट ने प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए 1706 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं। जिसमे मध्यप्रदेश का इसमें 682 करोड़ 40 लाख 40 हजार रुपये का शेयर है। इस योजना के अंतर्गत मध्यप्रदेश के कई जिलों को शामिल किया गया है जिनमे मंडला, डिंडोरी, शहडोल, उमरिया तथा सिंगरौली शामिल है। इन जिलों में किसानो को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए बोरवेल का निर्माण किया जाएगा जिससे सिंचाई में होने वाली परेशानी को समाप्त किया जा सके।

PMKSY 2021 की पात्रता

  • इस योजना का लाभ वही लोग उठा सकते है जिनके पास खेती करने योग्य जमीन हो।
  • इस योजना का देश के सभी वर्ग के किसान लाभ उठा पाएंगे।
  • इस योजना के अंतर्गत आने वाली सेल्फ हेल्प ग्रुप, सरकारी समिति, ट्रस्ट, इंकॉर्पोरेटेड कंपनियां, तथा उत्पादक कृषकों के समूहों के सदस्यो तथा अलग-अलग प्राप्त संस्थानों के सदस्यों को भी लाभ प्रदान किए जाएंगे।
  • यह योजना उन संस्थानों और लाभार्थियों को मिलेगी जो कम से कम साथ सालो से Lease Agreement के तहत उस भूमि पर खेती कर रहे हो। इसके अलावा कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के द्वारा भी यह योग्यता प्राप्त की जा सकती है।

PMKSY 2021 के लिए जरूरी दस्तावेज

  • जो किसान भाई आवेदन कर रहा है उसका आधार कार्ड।
  • इस योजना का लाभ देश के सभी वर्ग के किसान लाभ उठा पाएंगे।
  • जिस जमीन पर खेती की जा रही है उसके कागजात।
  • जिस जमीन पर खेती की जा रही है उस जमीन की जमाबंदी (खेत की नक़ल)
  • जिस बैंक में अकाउंट है उसकी बैंक की पासबुक।
  • आवेदनकर्ता का पासपोर्ट साइज फोटो।
  • आवेदनकर्ता का मोबाइल नंबर।

PMKSY 2021 में किस तरह करे आवेदन

किसानो तक इस जानकारी को पहुंचाने के लिए आधिकारिक पोर्टल स्थापित किये गए है। इन पोर्टल पर आपको इस योजना के विषय में सारी जानकारी मिल जाएगी। राज्य सरकारे पंजीकरण या आवेदन के लिए अपने प्रदेश के कृषि विभाग की वेबसाइट पर आवेदन वा पंजीकरण ले सकती है। यदि आप भी आवेदन या पंजीकरण करना चाहते है तो आप भी अपने प्रदेश की कृषि वेबसाइट पर जाकर जानकारी ले सकते है।

PMKSY 2021 क्या है?

यह किसानो के लिए बनाई गई योजना है जिसका पूरा नाम प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021 है।

इस योजना का लाभ कौन लोग उठा सकते है?

इस योजना का लाभ देश के सभी वर्ग के किसान लाभ उठा पाएंगे। जिनके पास खेती करने योग्य जमीन हो।

PMKSY 2021 योजना किसके द्वारा शुरू की गई है?

इस योजना को पीएम नरेंद्र मोदी जी के द्वारा शुरू किया गया है।

PMKSY 2021 योजना के लिए कितना पैसा पास किया गया है?

इस योजना पर तक़रीबन 93068 करोड़ रूपए का खर्चे आने का अनुमान लगाया जा रहा है।

Leave a Comment