तुलसी पूजन दिवस(Tulsi Pujan Diwas 2023): तुलसी विवाह कथा, जानिए तुलसी पूजा का महत्व और पूजा विधि

तुलसी पूजन दिवस(Tulsi Pujan Diwas 2023) हर साल कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। इस दिन भगवान शालिग्राम और तुलसी का विवाह होता है। यह दिन तुलसी के महत्व और उनके धार्मिक और औषधीय गुणों को याद करने का दिन है।

तुलसी पूजन दिवस कार्तिक मास शुक्ल पक्ष द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। इस वर्ष 2023 में तुलसी पूजन दिवस 25 दिसंबर को है।

तुलसी पूजन दिवस भगवान शालिग्राम और तुलसी माता के विवाह का प्रतीक है। इस दिन लोग अपने घरों में तुलसी के पौधे की पूजा करते हैं और भगवान शालिग्राम और तुलसी माता को भोग लगाते हैं।

तुलसी विवाह कथा: Tulsi Pujan Diwas

पौराणिक कथाओं के अनुसार, तुलसी एक सुंदर अप्सरा थी जिसका नाम वृंदा था। भगवान विष्णु से शादी करने की उसकी तीव्र इच्छा थी। उसने भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए कठोर तपस्या की। भगवान विष्णु उसकी भक्ति से प्रसन्न हुए और उससे शादी करने का वचन दिया।

लेकिन, जालंधर नामक एक राक्षस था जो वृंदा से शादी करना चाहता था। उसने भगवान विष्णु का रूप धारण कर वृंदा को धोखा दिया और उसके साथ शारीरिक संबंध बना लिया। जब वृंदा को पता चला कि उसे धोखा दिया गया है, तो उसने जालंधर को शाप दिया कि वह एक स्त्री के हाथों से मारा जाएगा।

जालंधर अजेय हो गया क्योंकि उसकी पत्नी वृंदा ने उसकी रक्षा करने का वचन दिया था। भगवान विष्णु ने वृंदा को समझाया कि जालंधर को मारने का एकमात्र तरीका उसे उसकी शक्ति से वंचित करना है। उन्होंने वृंदा को जालंधर के खिलाफ लड़ने के लिए राजी किया।

युद्ध के दौरान, वृंदा ने अपनी शक्ति का उपयोग जालंधर की रक्षा के लिए किया। भगवान विष्णु ने वृंदा के पतिव्रता धर्म का सम्मान करते हुए जालंधर का वध कर दिया।

वृंदा के पतिव्रता धर्म से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु ने उसे तुलसी के रूप में पृथ्वी पर रहने का वरदान दिया। उन्होंने यह भी वचन दिया कि वह हमेशा तुलसी के पौधे में निवास करेंगे।

तुलसी पूजा का महत्व

तुलसी को हिंदू धर्म में एक पवित्र पौधा माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि तुलसी के पौधे में भगवान विष्णु का वास होता है। तुलसी के पौधे को घर में रखने से सकारात्मक ऊर्जा आती है और नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। तुलसी के पौधे में कई औषधीय गुण भी होते हैं। यह सर्दी, खांसी, बुखार और अन्य बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है।

तुलसी पूजा विधि

  • सुबह स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें।
  • तुलसी के पौधे को गंगाजल से स्नान कराएं।
  • तुलसी के पौधे को चंदन, सिंदूर, फूल और फल अर्पित करें।
  • तुलसी की आरती करें।
  • तुलसी की माला से भगवान विष्णु और तुलसी जी का जाप करें।

तुलसी पूजा के लाभ

  • तुलसी पूजा करने से घर में सुख-शांति और समृद्धि आती है।
  • तुलसी पूजा करने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
  • तुलसी पूजा करने से स्वास्थ्य अच्छा होता है और बीमारियां दूर होती हैं।
  • तुलसी पूजा करने से मन शांत होता है और एकाग्रता बढ़ती है।

Read Also:

निष्कर्ष

तुलसी पूजन दिवस एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो हमें तुलसी के महत्व और उनके धार्मिक और औषधीय गुणों की याद दिलाता है। इस दिन तुलसी पूजा करने से घर में सुख-शांति और समृद्धि आती है।

Hi friends, we are a small team and we provide you with information related to government schemes and latest news. All the information we are collecting is from authentic sources. We hope you will like our content.

Leave a Comment